2 नवंबर से बदल जाएंगे दिन, चमक जाएगी तकदीर, धनतेरस के सितारे ला रहे हैं खुशियां


2 नवंबर 2021 को बुध ग्रह सुबह 9:43 बजे कन्या राशि से निकलकर तुला राशि में गोचर करेंगे और 21 नवंबर को तुला राशि से वृश्चिक राशि में गोचर कर जाएंगे। बुध का संबंध बृहस्पति और चंद्रमा से है, इसलिए इसमें इन दोनों ग्रहों की विशेषताएं हैं। इसी दिन धनतेरस का त्योहार भी मनाया जाएगा। आओ जानते हैं कि क्या होगा 12 राशियों का हाल।

मेष : आपके लिए यह गोचर बेहतर साबित होगा, क्योंकि मेष चंद्र राशि के लिए, बुध अपने साझेदारी के सातवें घर में तुला राशि में गोचर करने जा रहे हैं। बुध मेष राशि के तीसरे और छठे भाव का स्वामी है। इसके कारण यात्रा के योग बनेंगे और दांपत्य जीवन में सुख मिलेगा। नौकरीपेशा और व्यापारियों के लिए अच्छा समय है। आपको अपने परिवार की खुशियों का ध्यान रखना होगा।

वृषभ : बुध आपकी राशि के दूसरे और पांचवें भाव का स्वामी है, जो छठे भाव में गोचर कर रहा है। आपके लिए दिन सामान्य रहेगा। आपको खानपान पर ध्यान देना होगा नहीं तो सेहत बिगड़ सकती है। अनावश्यक खर्चों से बचना होगा और नौकरी पर ध्यान देना होगा। व्यापारी है तो लाभ के योग हैं। इस दिन आपको विनम्रता और धैर्य से काम लेना होगा।

मिथुन : आपकी राशि में बुध का पंचम भाव में गोचर होगा जो पहले और चौथे भाव का स्वामी है। गोचर के दौरान बुध लग्न भाव से जुड़ा होगा जिससे आपका स्वभाव प्रभावित होगा। इसलिए आपको विनम्र बने रहने की जरूर है। इस दौरान आपकी कार्य और रचनात्मक क्षमता में वृद्धि होगी। व्यापारियों को प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ेगा। यह गोचर आपको मिले-जुले परिणाम देने वाला है। आपको अपने परिवार पर ध्यान देने की जरूरत है।


कर्क : बुध आपकी राशि के बारहवें और तीसरे भाव का स्वामी है और चतुर्थ भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के कारण परिवार में प्रसन्नता, सुख और शांति बनी रहेगी। बस खानपान और खर्चों पर कंट्रोल करने की जरूरत है। नौकरीपेशा हैं तो सहकर्मी का समर्थन मिलेगा। व्यापारी हैं तो लाभ के योग हैं। वाहन खरीदने का योग है।

सिंह : आपकी राशि में बुध दूसरे और ग्यारहवें भाव का स्वामी होकर तीसरे भाव में गोचर करेगा। इस दौरान यात्रा के योग हैं। परिवार में भाई-बहनों के साथ संबंध मधुर बनेंगे। अटके कार्य पूर्ण होंगे। नौकरीपेशा हैं तो सहकर्मियों से अच्छा व्यवहार रखें। पिता की सेहत और करियर पर ध्यान दें। व्यापारी हैं तो लाभ मिलेगा।

कन्या : आपकी राशि के लिए बुध पहले और दसवें भाव का स्वामी होकर दूसरे भाव में गोचर करेगा। आपके लिए यह दिन मिलाजुला असर वाला होगा। परिवार के सदस्यों से अच्छा व्यवहार करें। वाणी पर नियंत्रण रखें। नौकरीपेशा अपने सहकर्मियों से व्यवहार में संयम रखेंगे तो फायदा होगा। व्यापारी वर्ग को भी अहंकार से बचना होगा।

तुला : आपकी राशि के लिए बुध बुध बारहवें और नौवें भाव का स्वामी होकर तुला में गोचर करेगा। आपके लिए यह समय कठिनाइयों से भरा है। आपको सतर्कता, संयम, विनम्रता और समझदारी से काम लेने की जरूरत है। सभी के मार्गदर्शन से ही कोई निर्णय लेंगे तो फायदा होगा। पारिवार के महत्व को समझें। पिता की सेहत का ध्यान रखें। भाग्य का साथ मिलेागा लेकिन आपको प्रयास जारी रखना है। व्यर्थ के वाद विवाद से बचें। सकारात्मक बने रहें।


वृश्चिक : आपकी राशि में बुध एकादश और आठवें भाव का स्वामी होकर बारहवें भाव में गोचर करेगा। आपको अपने लक्ष्य पर ध्यान देकर थोड़े और प्रयास करने की जरूरत है। तभी आपको इस अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे। आर्थिक रूप से यह सही है। परिवार के संग यात्रा के योग हैं।

धनु : आपकी राशि के लिए बुध सप्तम और दशम भाव का स्वामी होकर एकादश भाव में गोचर कर रहा है। आपके लिए यह समय सकारात्मक लाभ देने वाले सिद्ध होगा। कुछ चुनौतियों सामने खड़ी हो तो भी आप उनसे निपट लेंगे। व्यापार और व्यवसाय के लिए यह सही समय है। नौकरी में भी रचनात्मक क्षमताओं के लिए प्रशंसा होगी।


मकर : आपकी राशि में बुध छठे और नवम भाव का स्वामी होकर दशम भाव में गोचर करेगा। आपके लिए यह गोचर फलदायी रहने वाला है। आपके करियर, कार्यस्थल और व्यापार में सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे। आपको परिवार में शांति और सद्भाव बनाए रखने की जरूरत है।

कुंभ : आपकी राशि में बुध पंचम और आठवें भाव का स्वामी होकर नवम भाव में गोचर करेगा। ऐसे में आपको भाग्य का साथ मिलेगा। धार्मिक झुकाव बढ़ेगा। व्यापारी हैं तो धन लाभ बढ़ेगा। वित्तीय लाभ और सामाजिक स्थिति में वृद्धि होगी। मान सम्मान बढ़ेगा। लेन-देन में सतर्क और व्यवहार में संयम रखें। यात्रा होगी और दांपत्य जीवन आनंदमय गुजरेगा।


मीन : आपकी राशि में बुध चतुर्थ और सप्तम भाव का स्वामी होकर अष्टम भाव में गोचर करेगा। यहां आपको अचानक हानि या लाभ की संभावना है। अत: आपको सतर्क रहने की जरूरत है। सहकर्मियों के साथ व्यवहार में सावधान रहें। व्यापारियों को भी जोखिम उठाने से पहले सोचना होगा। परिवार में आपको शांति और सद्भाव के प्रयास करना होंगे।

3 views0 comments