श्रीहरि विष्णु के 16 नाम : अन्न ग्रहण करते समय जपें जनार्दन, किस नाम का कब करें जप....


भगवान श्रीहरि विष्णु ने मुख्य रूप से 24 अवतार लिए हैं। भगवान विष्णु के कई नाम हैं जिनमें से 16 ऐसे नाम हैं जिन्हें कुछ खास परिस्थिति में ही जपते हैं जिससे संकट दूर हो जाते हैं। आओ जानते हैं कि यह नाम कब कब जपना चाहिए।

इस संबंध में एक श्लोक प्रचलित है:-

विष्णोषोडशनामस्तोत्रं

औषधे चिन्तयेद विष्णुं भोजने च जनार्दनं शयने पद्मनाभं च विवाहे च प्रजापतिम युद्धे चक्रधरं देवं प्रवासे च त्रिविक्रमं


नारायणं तनुत्यागे श्रीधरं प्रियसंगमे दु:स्वप्ने स्मर गोविन्दं संकटे मधुसूदनम कानने नारसिंहं च पावके जलशायिनम



जलमध्ये वराहं च पर्वते रघुनंदनम गमने वामनं चैव सर्वकार्येषु माधवं षोडश-एतानि नामानि प्रातरुत्थाय य: पठेत


सर्वपाप विनिर्मुक्तो विष्णुलोके महीयते - इति विष्णो षोडशनाम स्तोत्रं सम्पूर्णं

1. औषधि लेते समय जपें- विष्णु 2. अन्न ग्रहण करते समय जपें- जनार्दन


3. शयन करते समय जपें- पद्मनाभ 4. विवाह के समय जपें- प्रजापति 5. युद्ध के समय - चक्रधर (श्रीकृष्ण का एक नाम)


6. यात्रा के समय जपें- त्रिविक्रम (प्रभु वामन का एक नाम) 7. शरीर त्यागते समय जपें- नारायण (विष्णु के एक अवतार का नाम नर और नारायण)


8. पत्नी के साथ जपें- श्रीधर 9. नींद में बुरे स्वप्न आते समय जपें- गोविंद (श्रीकृष्ण का एक नाम)

10. संकट के समय जपें- मधुसूदन 11. जंगल में संकट के समय जपें- नृसिंह (विष्णु के एक अवतार नृसिंह भगवान)


12. अग्नि के संकट के समय जपें- जलाशयी (जल में शयन करने वाले श्रीहरि) 13. जल में संकट के समय जपें- वाराह (वराह अवतार जिन्हें धरती को जल से बाहर निकाला था)


14. पहाड़ पर संकट के समय जपें- रघुनंदन (श्रीराम का एक नाम) 15. गमन करते समय जपें- वामन (दूसरा नाम त्रिविक्रम जो बाली के समय हुए थे)

10. संकट के समय जपें- मधुसूदन 11. जंगल में संकट के समय जपें- नृसिंह (विष्णु के एक अवतार नृसिंह भगवान)


12. अग्नि के संकट के समय जपें- जलाशयी (जल में शयन करने वाले श्रीहरि) 13. जल में संकट के समय जपें- वाराह (वराह अवतार जिन्हें धरती को जल से बाहर निकाला था)


14. पहाड़ पर संकट के समय जपें- रघुनंदन (श्रीराम का एक नाम) 15. गमन करते समय जपें- वामन (दूसरा नाम त्रिविक्रम जो बाली के समय हुए थे)

3 views0 comments