विष्णु चिन्ह : हथेली में हो अगर ये अद्भुत चिन्ह तो सुखद रहता है जीवन


वैदिक ज्योतिष की ही एक शाखा है हस्तरेखा विज्ञान। जिस तरह वैदिक ज्योतिष में ग्रह और नक्षत्रों की दशा से किसी भी जातक के भविष्य का अध्ययन किया जाता है। ठीक उसी तरह हस्तरेखा विज्ञान में किसी जातक की हाथ की रेखाओं को देखकर उसके भविष्य के बारे में पता लगाया जाता है। जिस तरह ग्रहों की युति किसी जातक की कुंडली में कुछ विशेष योग बनाती है, वैसे ही हाथों की लकीरों में मौजूद कुछ निशान भी जातकों के जीवन में कुछ विशेष योग बनाते हैं और इनमें से ही एक विशेष निशान है विष्णु चिन्ह।

मान्यता है कि जिस जातक की हथेली में विष्णु चिन्ह मौजूद हो, ऐसे जातक पर स्वयं भगवान विष्णु की कृपा होती है। ऐसे में आज के इस लेख में अहम आपको विष्णु चिन्ह के बारे में जानकारी देने वाले हैं।

हथेली में विष्णु चिन्ह

किसी भी जातक की हथेली में विष्णु चिन्ह हृदय रेखा से बनता है। हृदय रेखा हमारी हथेली में उंगलियों के ठीक नीचे वाली रेखा को कहते हैं जो कनिष्ठा उंगली के पास शुरू होकर गुरु पर्वत के पास जाकर खत्म होती है। जब यह हृदय रेखा गुरु पर्वत के पास जाकर दो भागों में बंट जाये और अंग्रेजी के अल्फ़ाबेट वी (v) का आकार ले ले तो विष्णु चिन्ह का शुभ योग बनता है। इस चिन्ह में हृदय रेखा की एक लकीर मध्यमा और तर्जनी उंगली के बीच में चली जाती है और एक गुरु पर्वत पर सीधी निकल जाती है।

क्या होता है अगर किसी जातक की हथेली में हो विष्णु चिन्ह?

जिस भी जातक की हथेली में विष्णु चिन्ह होता है, वो जातक बेहद ही भाग्यशाली माना जाता है। ऐसे जातक स्वभाव से विनम्र होते हैं। इनके अंदर समाज के लिए कुछ करने का जज्बा होता है। ऐसे जातक किसी के दबाव में आकर सत्य की राह को नहीं छोड़ते हैं बल्कि सही को सही और गलत को गलत कहना इनकी आदत में शुमार होता है। ऐसे जातक हमेशा इस कोशिश में रहते हैं कि वे समाज में सकारात्मकता ला सकें और जीवन में कभी न कभी ये समाज में अपना योगदान जरूर देते हैं।

ऐसे जातकों के विनम्र स्वभाव की वजह से ये काफी लोकप्रिय होते हैं। ऐसे जातकों को लोगों से भी बहुत स्नेह प्राप्त होता है। कला की तरफ इन का विशेष झुकाव होता है और कला का ये सम्मान भी करते हैं। इन्हें अध्ययन का शौक होता है और नयी जानकारी जुटाना इन्हें बेहद पसंद आता है। ऐसे जातकों के शत्रु इन का चाह कर भी कभी कुछ बिगाड़ नहीं पाते हैं।

साथ ही ऐसे जातकों का जीवन ज्यादा परेशानियों से भरा नहीं रहता। अगर इन जातकों के हथेली में सूर्य पर्वत अच्छा हो और सूर्य रेखा भी निर्दोष हो तो ऐसे जातक राष्ट्राध्यक्ष तक बनते हैं। ऐसे जातकों का अनुसरण पूरा विश्व करता है। इनके पास धन-सम्पदा की कभी कमी नहीं रहती है। ऐसे जातक आमतौर पर वैज्ञानिक, संत, महात्मा, नेता आदि बनते हैं जिनको दुनिया भर से सम्मान प्राप्त होता है।

1 view0 comments