Search
  • Acharya Bhawana Sharma

फिर सोने में आएगी तेजी बृहस्पति का गोचर लाएगा ये बदलाव


धातुओं में यदि बात की जाए सोने की तो इस का प्रभाव ज्योतिष शास्त्र में सूर्य और बृहस्पति से बहुत अधिक जोड़ा जाता है क्योंकि धातुओं में स्वर्ण धातु पर इन ग्रहों का अधिपत्य माना गया है. इसी के साथ अन्य ग्रहों का भी प्रभाव इस धातु पर अपने अपने रुप से पड़ता है लेकिन एक स्पष्ट दृष्टिकोण से स्वर्ण से संबंधित मिलने वाले लाभ और हानि की स्थिति बृहस्पति ओर सूर्य द्वारा और मुख्य रुप से बृहस्पति द्वारा क्योंकि बृहस्पति एक लम्बी अवधि का गोचर प्रभाव रखता है इसलिए स्वर्ण से संबंधित बदलाव का हम सभी पर गहरा असर पड़ता है. इसके अलावा राहु केतु और अन्य ग्रहोम की स्थिति इस पर होने वाले बदलावों के लिए जिम्मेदार बनती है. यदि हम बात करें पिछले दो सालों की तो जब जब बृहस्पति का गोचर प्रभावित हुआ तब तब सोने के दामों में अचानक से उछाल और गिरावट देखी गई है. सोने की कीमतों पर तेजी से गिरावट होता या फिर चढ़ाव इसका कारण अर्थशास्त्री वायदा कारोबार की नीतियों ओर बदलावों से जान पाते हैं लेकिन ज्योतिष दृष्टिकोण में मेदिनी ज्योतिष नक्षत्रों एवं गुरु की स्थिति इस पर काफी प्रभाव डालने वाली होती है.


बृहस्पति का मजबूत गोचर

बृहस्पति का गोचर जब अपनी मजबूती में होता है तो ये स्थिति स्वर्ण के लिए काफी महत्वपूर्ण होती है अभी पिछले कुछ समय से एक ट्रेंड को देखा गया जिसमें बताया गया है सोना जल्द ही समाप्ति को पाएगा ऎसे में यदि बात करें तो गुरु की स्थिति एक लम्बे समय से प्रभावित रही है गोचर में गुरु की राहु केतु के साथ स्थिति उसके बाद राशि होना तथा उसके बाद गुरु के नीच स्थिति का गोचर ये ऎसे बातें हैं जो उसकी स्थिति को खराब करने वाला होता है


कमजोर बृहस्पति देता है सोने में गिरावट का संकेत

वास्तव में बाजार में सोने का इस तरह लुढ़कने का कारण कुछ और नहीं बृहस्पति की यह स्थिति है. ज्योतिष का नियम है कि जब बृहस्पति अपनी नीच राशि में होते हैं तब अर्थव्यवस्था में गिरावट एवं आर्थिक अपराध की घटनाओं में वृ्द्धि होती है. बृहस्पति कालपुरुष में भाग्य है ओर साथ ही खर्च भी है वृद्धि की दर भी है इसलिए जब ये नीच राशिगत होते हैं तो अपने से संबंधित क्षेत्र जैसे बाज़ार के निवेशकों को विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है.


बृहस्पति का अस्त होना वक्री होना या पाप ग्रह प्रभाव के साथ शत्रु नक्षत्र में होना विश्व अर्थव्यवस्था में गोल्ड की स्थिति को प्रभावशालि रुप से असर डालने वाला बनता है. हज़ारों निवेशकों पर सोने का उतार चढ़ाव असर डालता है.


अब फिर से आ सकती है गोल्ड में बहार

अब ये स्थिति समाप्त होने वाली है क्योंकि बृहस्पति का मार्च में गोचर की स्थिति के चलते स्वर्ण में तेजी का समय दिखाई देगा ओर मई तक इसी स्थिति पर असर होगा लेकिन इसके बाद फिर से गिरावट आ सकती है और नवंबर के बाद ये फिर से उछाल को पाएगा तो आने वाले समय में सोने की कीमतों में होने वाला बदलाव सभी को प्रभावित करने वाला होगा


1 view0 comments

Recent Posts

See All

महाबली हनुमान जी को संकट मोचन भी कहा जाता है। हनुमान जी अपने भक्तों पर आने वाले सभी तरह की परेशानियां और भय दूर करते हैं। कहा जाता है कि हनुमान जी से बढ़कर कोई देवी-देवताएं नहीं है ये आज के समय में भी