पीटर हरकौस की भविष्यवाणियां


विश्व में ऐसे सैंकड़ों लोग हुए हैं जिन्होंने भविष्य के घटनाक्रम और परिवर्तन को लेकर कई भविष्यवाणियां की हैं। बहुतों की भविष्यवाणियां सही साबित हुई है तो बहुतों की गलत। जिनकी भविष्यवाणियां सही साबित हुई है। कई विदेशी भविष्यवक्ताओं ने भारत के संबंध में भविष्यवाणी की है उन्हीं में से एक है पीटर हरकौस। इन्होंने यूं तो कई भविष्वाणी की है परंतु भारत के संबंध में 4 भविष्यवाणी महत्वपूर्ण है।



पीटर हरकौस (Peter Hurkos) : 1. हॉलैंड के भविष्यवक्ता पीटर हरकौस की प्रसिद्धि दूर-दूर तक थी। कहते हैं कि उन्हें अतीन्द्रिय दर्शन की यह अद्भुत क्षमता एक दुर्घटना में अनायास ही प्राप्त हुई थी। दुर्घटना में वे ठीक हो गए थे। वे जिन दिनों अस्पताल में थे उन्हीं दिनों ठीक होकर जा रहे एक व्यक्ति को उन्होंने रोका। वह पास आकर खड़ा हुआ तो पीटर ने कहना शुरू किया- 'मित्र मेरी बात मानो तो तुम अभी बाहर मत निकलो, जर्मन जासूस तुम्हें ढूंढ रहे हैं और तुम्हें देखते ही वे गोली मार देंगे।' पीटर की बात अनसुनी कर वो शख्स आगे बढ़ गया। वह एक ब्रिटिश जासूस था। कुछ ही देर बाद बाहर गोलियां चलने की आवाज सुनाई दीं। सचमुच वह व्यक्ति भून दिया गया था।

2. एक शहर में कुछ टीनेजर्स कभी पर भी आग लगाकर भाग जाते थे। एक बार पीटर ने खेत में आग लगने की पूर्व सूचना पुलिस को दे दी थी। पुलिस ने पीटर को ही आग लगाने वाला शख्स समझ कर पकड़ लिया। बाद में पीटर ने पुलिस को उनके ही कक्ष में उनकी जेब में रखी वस्तुओं को बता दिया। जेब में किस कंपनी का पेन रखा और जेब में कौन कौन से कागज रखे हैं यह भी बता दिया तब पुलिस वालों को विश्‍वास हुआ। फिर पुलिस ने पीटर की मदद से उनक लड़कों को पकड़ लिया था। पीटर पुलिस वालों की मदद करने लगे और उन्होंने एक बार एक अनजान खूनी को पकड़वाया। इस तरह धीरे धीरे वे फेमस हो गए।

3. 1950 में ब्रिटेन में से एक कीमती हीरा चोरी हो गया था। पीटर को लंदन आने का न्योता दिया गया। पीटर ने उन चोरों के द्वारा छोड़े हुए सबूत को माँगा तो पुलिस ने उन्हें वो घड़ी और हथियार दिया। पीटर ने उस घड़ी और हथियार को अपने दोनों हाथों से पकड़ा और आंखें बंद करके कुछ देर के लिए शांत हो गए और फिर उसके बाद स्कॉटलैंड वैली से लंदन शहर तक का नक्शा मांगा और वे नक्शों पर कुछ लाइनें खींचने लगें और उन लाइनों के साथ कुछ जगह के नाम और कुछ चिन्ह भी लिखने लगे। पीटर के मुताबिक ये वही रास्ता था जहां से वे चोर भागे थे। पीटर ने बताया की चोर एक नहीं बल्कि पांच हैं। जिसमें से एक औरत हैं और उन्होंने चुराए गए हीरे को एक पुराने चर्च में रखा हुआ हैं और इस समय ग्लास्कों शहर के तरफ भाग रहें हैं..पाँचों के के हुलिए के बारे में पीटर ने स्केच आर्टिस्ट को बताया। इस तरह वे चोर पकड़ा गए।

4. एक बार 1956 में पीटर को अमेरिका के मनोवैज्ञानिकों ने जांच के लिए आमंत्रि‍त किया। यह किस तरह पॉसिबल है कि कोई व्यक्ति किसी वस्तु को छूकर उससे जुड़े घटनाक्रम बता सकता है? मनोवैज्ञानिकों ने प्रारंभ में पीटर को कुछ किताबें दी गयी और उसके मालिक के बारे में कुछ बताने को कहा। पीटर ने एक किताब पर हाथ फेरा और कहा कि यह उनकी ही वाइफ के द्वारा दी गई है जो इस वक्त अपने गार्डन में साफ सफाई कर रही है। उसके बाद उस मनोवैज्ञानिक चकित होकर कहा- 'हाउ इस दिस पॉसिबल'। मनोवैज्ञानिक चार्ल्स टाट ने कई टेस्ट किए और हर बार पीटर सफल हो गए और आखिर में टाट ने हार मान ली।

भारत के संबंध में भविष्यवाणी : 1. इस शताब्दी के महानतम भविष्यवक्ता पीटर हरकौस ने अपनी भविष्यवाणी में लिखा है कि 'भारत में आध्यात्मिकता तथा धार्मिकता की जो लहर उठेगी, वह सारे विश्व में छा जाएगी।'


2. भारत पूरी दुनिया का प्रतिनिधित्व करने वाला देश बनेगा। 3. भारत में बहुसंख्यक आध्यात्मिक लोगों के तेज से वहां के दहशतगर्द समूहों को परास्त होना पड़ेगा।


4. मूल सनातन हिंदुत्व का पूरी दुनिया में डंका बजेगा जो अपनी शान्ति और आध्यात्मिक शक्तियों से दुनिया का गुरु बनेगा।

हालांकि भारत के संबंध में उनके द्वारा की गई भविष्यवाणियों का जिक्र कम ही मिलता है। इसमें कितनी सचाई है यह बताना मु्श्किल है।


पीटर का परिचय : पीटर वेन डर हर्क अर्थात पीटर हरकौस का जन्म 21 मई 1911 को ड्रोड्रेक्ट, होलैंड में हुआ था। उनके पिता सामान्य इंसान थे जो मित्री का कार्य करते थे और मां हाउस वाइफ थी। किशोरावस्था में पीटर एक जहाज पर शेफ के रूप में काम करने लगे और कुछ समय बाद ही उन्होंने संघाई के एक बंदरगाह पर एकाउंटेंट का काम संभाल लिया। एक बार पीटर सीढ़ी से पैर फिसल जाने के वजह से 50 फीट ऊपर से गिरे और उनके सिर में गंभीर चोटें लगी। 6 दिन कोमा में रहने के बाद जब वे होश में आये तो उनकी यादाश्त जा चुकी थी। डॉक्टरों ने कहा कि कुछ दिन के इलाज के बाद यादाश्त वापस आ सकती है। तभी अस्पताल में बगल के पलंग का मरीज ठीक होकर जा रहा था तो उसने पीटर से हाथ मिलाया। हाथ मिलाते ही पीटर को कुछ अजीब सा लगा और उसे उस मरीज के भविष्य का ज्ञान हो गया। बस यहीं से पीटर का भविष्य दर्शन प्रारंभ होता है।


पीटर हर्कोस ने तीन शादियां की थी की तीनों शादी से उनकी कुल छः संतान थी। पीटर हर्कोस ने 1 जून 1988 को वेस्ट हॉलीवुड, कैलिफ़ोर्निया के सीडर-सिनाई अस्पताल में अपनी अंतिम सांस ली। उनकी किताब का नाम है- The Psychic World of Peter Hurkos.

2 views0 comments