धन संपत्ति के उपाय


इस विश्व में ऐसा कौन होगा जिसको धन संपत्ति ( Dhan sampati ) सुख-समृद्धि ( Sukh Samraddhi ) की चाह नहीं है। इस विश्व में सब कुछ केवल हमारी इच्छाओं के अनुरूप ही नहीं होता है क्योंकि इस धरती में केवल हम अकेले ही नहीं रहते है। कई बार बहुत प्रयास करने के बाद भी कार्यो में अड़चने आ जाती है, या जैसा हम चाहते है वैसा लाभ नहीं मिल पाता है या हम कमाते तो बहुत है लेकिन कमाई में बरकत नहीं होती है या हमारी कमाई में निरंतरता नहीं रहती है । इनके निवारण के लिए शास्त्रो में बहुत से धन संपत्ति पाने के उपाय ( Dhan sampti pane ke upay ) , धन पाने के सरल उपाय ( Dhan pane ke saral upay ) बताये गए है जिनको पूर्ण विश्वास से, चुपचाप करने से धन का आगमन ( Dhan ka agman ) आसानी से होता है। यहाँ पर हम ऐसे ही धन संपत्ति पाने के उपाय ( Dhan sampti pane ke upay ) बता रहे है जिनको करने से हमें अपने कार्यो में सफलता मिलती है, धन की कमी नहीं रहती है।

dhan sampati pane ke upay, धन संपत्ति पाने के उपाय,

* एक हंडिया में सवा किलो हरी साबुत मूंग की दाल, दूसरी में सवा किलो डलिया वाला नमक भर दें। यह दोनों हंडिया घर में कहीं साफ और सुरक्षित जगह में रख दें। यह क्रिया बुधवार के दिन करें। घर में धन आना और रुकना शुरू हो जाएगा। * अगर अचानक धन लाभ ( Achanak dhan labh ) की स्थितियाँ बनती नज़र आती हों, किन्तु लाभ नहीं मिल रहा हो, तो गोपी चन्दन की नौ डलियाँ लेकर केले के वृक्ष पर टाँग देनी चाहिए। यह ध्यान रहे की यह चन्दन पीले धागे से ही बाँधना है। यह भाग्य चमकाने का अचूक उपाय ( Bhagy Chamkani Ka achuk upay ) है

* अकस्मात् धन लाभ ( Akasmat Dhan labh ) के लिये शुक्ल पक्ष के प्रथम बुधवार को सफेद कपड़े के झंडे को पीपल के वृक्ष पर लगाना चाहिए। इस प्रयोग से व्यवसाय में किसी भी प्रकार का अवरोध भी टल जाता है ।

* अगर आप अमावस्या के दिन पीली त्रिकोण आकृति की पताका विष्णु मन्दिर में ऊँचाई वाले स्थान पर इस प्रकार लगाएँ कि वह लगातार लहराती रहे, तो शीघ्र ही आपका भाग्य चमक उठेगा । लगातार स्थाई लाभ हेतु यह ध्यान रहे की झंडा वहाँ लगा रहना चाहिए। उसे आप समय समय पर स्वयं बदल भी सकते है ।

* प्रत्येक शुक्रवार को माता लक्ष्मी के सामने नौं बत्तियों का शुद्ध घी का दीपक जलाकर सफ़ेद दूध की बनी मिठाई का भोग लगाकर तत्पश्चात अपने हाथ से वह प्रशाद अपनी माता, पत्नी, बहन एवं बेटी को खिलाने सबको बाँटने के बाद अंत में स्वयं ग्रहण करने से मां लक्ष्मी सदैव उस घर में निवास करती है।

* जो व्यक्ति नहाते हुए अथवा पैर धोते हुए पैर से पैर को रगड़कर साफ करता है, सर पर तेल लगाने के बाद हाथों में बचे हुए तेल को मुंह, कलाइयों या बाजुओं में रगड़ता है, नोटों को थूक लगा कर गिनता है । उसे हमेशा धन का संकट बना रहता है । * महिलाओं का आदर करने से तथा 10 वर्ष से कम उम्र की कन्याओं को देवी का स्वरूप मानकर प्रसन्न करने से सुख-समृद्धि sukh samridhi की वृद्धि होती है।

* सफेद वस्तुओं का दान करने से मां लक्ष्मी अति प्रसन्न होती हैं और सुख-संपत्ति sukh samriddhi का भंडार भर देती हैं।


* घर में टूटे-फूटे बर्तनों का उपयोग कदापि न करें। यह दरिद्रता का सूचक है और इससे माँ लक्ष्मी रुष्ठ हो जाती हैं।


* भगवान विष्णु की पत्नी महालक्ष्मी के कई फोटो उपलब्ध हैं। इन उपलब्ध चित्रों में से उस फोटो की पूजा करनी चाहिए जिसमें महालक्ष्मी और भगवान श्रीहरि गरुड़ देव पर आसीन हो। इस फोटो की पूजा करने पर व्यक्ति मालामाल हो सकता है।जो भी भक्त देवी लक्ष्मी के ऐसे फोटो की पूजा करता है वह सभी देवी-देवताओं की कृपा का पात्र बन जाता है। इसके व्यक्ति कुंडली के सभी दोषों का प्रभाव भी कम हो जाता है। श्रीहरि के साथ लक्ष्मी यदि गुरुड़ देव पर आसीन होकर आपके यहां आएंगी तो वे स्थाई रूप से आप पर कृपा बरसाएंगी।

3 views0 comments