Search
  • Acharya Bhawana Sharma

जानिए 2022 में किस राशि के जातकों की जोड़ी होगी बेहद ख़ास


रिश्तों के बारे में हम सभी मानते हैं कि जोड़ी स्वर्ग में बनती हैं। फिर भी कभी-कभी एक रिश्ता बेहद ख़ास बनकर हमें ज़िंदगी का मतलब समझा देता है और कई बार यही रिश्ता जीवन को तनावपूर्ण कर देता है। आपसी भावनाओं और गुणों का मिलना किसी भी रिश्ते के लिए बहुत ज़रूरी होता है। वर्ष की प्रकृति और स्वामी ग्रह के प्रभाव को ध्यान में रखकर वर्ष 2022 में सभी राशि के जातकों के लिए ये ज्ञात किया गया कि इस वर्ष कौन-सी राशि के जोड़ों के सफल होने की सम्भावनाएँ अधिक हैं।

तो आइए जानते हैं ऐसे राशि संगत जोड़े जो इस वर्ष एक अच्छे रिश्ते की शुरूआत कर सकते हैं….


मेष और मिथुन राशि के जातकः मेष राशि का स्वामी मंगल और मिथुन का राशि स्वामी बुध है। रचनात्मक शक्ति वाले मेष राशि के जातक मित्रता और शत्रुता दोनों भलीभाँति करना जानते हैं। चुम्बकीय और आकर्षक प्रकृति के धनी मेष राशि और दूसरे के फ़ैसलों व मूल्यों का सम्मान करने वाले मिथुन राशि के जातकों के बीच इस वर्ष ख़ास सम्बंध हो सकता है।

वृषभ-मकर-कन्या राशि के जातकः प्रत्येक कार्य को कुशलता पूर्वक करने वाले वृषभ राशि और रिश्तों के प्रति अधिक विचारशील मकर राशि के जातकों के मध्य इस वर्ष अच्छे रिश्ते बनने की सम्भावना है। दोनों ही राशि के जातक एक-दूसरे के नज़रियों का सम्मान करते हैं। पृथ्वी तत्व से चालित और यथार्थता को स्वीकार करने वाली राशि कन्या का सम्बंध दोनों ही राशियों से शुभ होने वाला है।


कर्क और वृश्चिक राशि के जातकः अत्यंत संवेदनशील कर्क राशि के जातकों हेतु भावनात्मक रूप से सुरक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है। कर्क और वृश्चिक राशि के जातकों के बीच आपसी भावनाओं को समझने की शक्ति होती है। ये अच्छे जोड़े साबित हो सकते हैं।


सिंह और धनु राशि के जातकः सिंह राशि का स्वामी सूर्य इस राशि के जातकों को प्राकृतिक रूप से आशावादी, अनुशासित और नेतृत्व क्षमता से धनी बनाता है। सिंह और धनु राशि वाले जातक आपसी स्वतंत्रता का आदर करते हैं। दोनों ही जातक एक-दूसरे को प्रेरणा देने का कार्य बखूबी करते हैं।


तुला और कुंभ राशि के जातकः मज़ेदार प्रकृति के गुण वाले तुला राशि के जातक सभी राशियों को लुभाते हैं। लेकिन, तुला और कुंभ राशि के जातकों के मध्य एक लम्बा रिश्ता क़ायम हो सकता है। क्योंकि, दोनों ही जातकों के स्वभाव कई हद तक एक जैसे होते हैं और कुंडली में भी गुणों का मेल स्वाभाविक होता है।


मीन-कर्क-वृश्चिक के जातक: भावुक स्वभाव और जल राशि मीन के जातकों के कर्क या वृश्चिक से सामंजस्य के साथ दीर्घ-क़ालीन सम्बंध बन सकते हैं। लगभग तीनों ही राशियों के जातक प्रेम भावना और रचनात्मकता से परिपूर्ण होते हैं, जिस कारण इनमें से किन्ही दो राशियों के बीच सम्बंध संतोषजनक होगा।

6 views0 comments

Recent Posts

See All

महाबली हनुमान जी को संकट मोचन भी कहा जाता है। हनुमान जी अपने भक्तों पर आने वाले सभी तरह की परेशानियां और भय दूर करते हैं। कहा जाता है कि हनुमान जी से बढ़कर कोई देवी-देवताएं नहीं है ये आज के समय में भी