जानिए भारत में कोविड की स्थिति पर ज्योतिष का नज़रिया


भारत में 27 दिसंबर से 2 जनवरी के दौरान ओमाइक्रोन की संख्या 1,700 अंक को पार कर गई, जो पहले की तुलना में बारह सप्ताह का उच्च स्तर है और मई 2020 के बाद सबसे कम है। ताजा खबरों के लिए यहां बने रहें। रविवार को महाराष्ट्र में 11,877 नए कोरोना मामले आए, जो पिछले दिन की तुलना में 29 प्रतिशत ज़्यादा हैं। रविवार को सिर्फ़ मुंबई में ही 8,063 नए कोरोना के मामले थे जो शनिवार की तुलना में 27 प्रतिशत ज़्यादा हैं। शनिवार से राज्य में नौ कोविड के कारण नौ मौतें हुईं। सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र से सामने आए हैं। यहाँ ऑमिक्रान वेरियेंट के पचास नए मामले दर्ज किए गए। मुंबई में ऑमिक्रान का एक नया मामला सामने आया है। मुंबई के अतिरिक्त, महाराष्ट्र में ऑमिक्रान मामलों की कुल संख्या 510 है।


पूरे भारत में ओमाइक्रोन मामलों की आधिकारिक संख्या 1500 है। यह संख्या 10 गुना से अधिक हो सकती है। कुछ देशों में 90 प्रतिशत नए मामलों में ओमाइक्रोन मामले होते हैं, यही वजह है कि भारत बाकी दुनिया का अनुसरण कर रहा है। भारत में बहुत कम परीक्षण सुविधाएँ या प्रयोगशालाएँ हैं जो आमिक्रॉन की जाँच कर सकती हैं इसलिए यहाँ मामलों की आधिकारिक संख्या कम है।


देश ने रविवार को नए कोविड मामलों में 21 प्रतिशत की छलाँग लगाई। लगभग तीन सौ लोग इस वायरस के कारण मारे गए। अमेरिकी रक्षा सचिव की जाँच सकारात्मक निकली। पेंटागन प्रमुख के बयान के अनुसार, “उनमें हल्के लक्षण थे और वे अगले पाँच दिनों तक घर पर ही रहेंगे। वे पूर्ण वैक्सीनेटेड और बूस्टेड थे, जिसने संक्रमण को ज़्यादा नहीं होने दिया। वैक्सीन हमारे कार्यबल के लिए आवश्यकता बनी रहेगी। मैं सभी को बूस्टर शॉट लेने के लिए प्रोत्साहित करता हूँ।”


भारत में 15 से 18 साल के बच्चों का टीकाकरण आज से शुरू हो गया है। साथ ही, संवेदनशील वर्गों के लिए एहतियाती बरतते हुए तीसरी खुराक की वैक्सिनेशन ड्राइव 10 जनवरी से शुरू होना है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने आयु वर्ग के टीके के बारे में राज्यों को जानकारी दे दी है। जिसके आधार पर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अतिरिक्त खुराक भेजी जाएगी।


भारत में 16 जनवरी से प्रारम्भ हुए कोविड टीकाकरण ने मंगल से सानिध्य रफ़्तार पकड़ी और नए आयामों को छुआ। लेकिन, पिछले साल 10 अप्रैल को शुक्र ग्रह का अपनी राशि मीन से मंगल की राशि मेष में गोचर का प्रभाव भारत समेत कई देशों में स्वास्थ्य व्यवस्था बिगड़ जाने का कारण रहा। अब 4 जनवरी को धनु राशि में शुक्र का अस्त होना कई उत्तरी-पश्चिमी देशों के लिए सेहत सम्बन्धी कठिनाई ला सकता है, जिस कारण यहाँ कोविड के नए वेरिएंट परेशानी की वजह बनेंगे। चूँकि, शनि के स्वामित्व वाली राशि मकर में अप्रैल तक स्वयं शनि रहेगा। इससे कहीं-कहीं स्थिति और ख़राब हो सकती है। 14 जनवरी के बाद सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने से कई हद तक दक्षिण-पूर्वी देशों को ऑमिक्रान के प्रभाव से राहत मिलने की सम्भावना है।

2 views0 comments