गणेशोत्सव : गणेश चतुर्थी के दिन न करें ये 5 कार्य, वर्ना पछताएंगे


भाद्रपद की शुक्ल चतुर्थी से 10 दिवसीय गणेश उत्सव की शुरुआत हो जाती है। अनंत चतुर्दशी के दिन विसर्जन होता है। इस बार अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 10 सितंबर 2021 शुक्रवार से गणेश उत्सव प्रारंभ होगें जो 19 सितंबर तक चलेंगे। आओ जानते हैं कि गणेश चतुर्थी के दिन कौनसे 5 कार्य नहीं करना चाहिए।

1. चतुर्थी तिथि की दिशा नैऋत्य है। चतुर्थी खला तिथि हैं। तिथि 'रिक्ता संज्ञक' कहलाती है। अतः इसमें शुभ व मांगलिक कार्य वर्जित रहते हैं। इससे व्रत का ही फल मिलता है। हालांकि यदि चतुर्थी गुरुवार को हो तो मृत्युदा होती है और शनिवार की चतुर्थी सिद्धिदा होती है और चतुर्थी के 'रिक्ता' होने का दोष उस विशेष स्थिति में लगभग समाप्त हो जाता है।


2. इस दिन प्याज, लहसुन, शराब और मांस का सेवन नहीं करना चाहिए। 3. भगवान गणेश के इस पवित्र दिन पर शारीरिक संबंध बनाना वर्जित माना जाता है।

4. चतुर्थी के दिन किसी भी पशु और पक्षी को न तो सताना चाहिए और न ही मारना चाहिए।



5. चतुर्थी के दिन झूठ बोलने से नौकरी और व्यापार में नुकसान होता है।

5 views0 comments